काशी में छठ पूजा देख SWEDEN के जोड़े ने हिन्दू रीति से रचाया ब्याह

विश्व की प्राचीनतम नगरी काशी की हर अदा निराली है और यह दुनिया भर के टूरिस्ट्स को अपने ओर आकर्षित करती रही है. पिछले कुछ साल से काशी आ रहा जोड़ा यहां होने वाली छठ पूजा देखकर ऐसा प्रभावित हुआ की उसने हिन्दू

छठ पूजा देख SWEDEN के जोड़े ने हिन्दू रीति से रचाया ब्याह

छठ पूजा देख SWEDEN के जोड़े ने हिन्दू रीति से रचाया ब्याह

रीति-रिवाजों के अनुसार शादी करने का फैसला कर लिया. गुरुवार को स्वीडन निवासी निकोलस और टिल्डा ने हिन्दू वैदिक रीति के अनुसार ब्याह रचाया.

निकोलस और टिल्डा ने सनातनी परम्परा के अनुसार अग्नि को साक्षी मान सात लिए. इनकी शादी में बड़ी संख्या में स्थानीय लोग शामिल हुए. शादी की रस्मों को पूरा करने की जिम्मेदारी अस्सी निवासी अजय मिश्रा ने उठाई और वैदिक मंत्रोच्चार के बीच उनका विवाह सम्पन्न कराया. इस मौके पर काफी संख्या में विदेशी टूरिस्ट्स भी मौजूद थे.

टिल्डा को दुल्हन बनाने के लिए निकोलस बारात अस्सी लेकर स्थित एक रेस्तरां से बैंड बाजे के साथ निकले. इस दौरान बारातियों ने जमकर डांस किया. शादी के बाद नवविवाहिता टिल्डा ने बताया कि निकोलस एक अच्छे इंसान हैं और हमारी मुलाकात काशी में ही दो साल पहले हुई थी और यहां घाटों पर भारतीय महिलाओं को छठ पूजा की तैयारी करते देखा तो तभी फैसला कर लिया कि वे दोनों भारतीय रीति रिवाज से गंगा के तट पर शादी करेंगे और आज उनका सपना पूरा हो गया.

Leave A Reply